सांसद इमरान मसूद कहां के मुफ्ती है जो उन्हें पता है नमाज कबूल होगी या नहीं (अनवर चौधरी)

पूर्व बसपा पार्षद प्रत्याशी अनवर चौधरी ने सांसद इमरान मसूद के नमाज वाले बयान पर पलटवार करते हुए कहा है कि इमरान मसूद संविधान के नाम पर चुनाव जीते हैं और अब इमरान मसूद सांसद बनने के बाद फतवे देने लगे हैं सांसद इमरान मसूद कहां के मुफ्ती है जो उसे पता है नमाज कबूल होगी या नहीं अनवर चौधरी ने कहां कि सांसद इमरान मसूद को लोगो ने संसद में फतवे सुनाने या इमामत करवाने के लिए नही भेजा है

बल्कि लोगो की आवाज़ और अन्याय के खिलाफ आवाज़ उठाने के लिए सभी सम्प्रदाय के लोगों ने मिल जुलकर वोट करके उन्हे सांसद बनाया है ताकि सांसद में जनता के मुद्दो को संसद व सड़को पर उठा सके इसलिए नहीं की वह जनता पर फतवे थोपे । उन्होंने कहा है कि जब एक सम्प्रदाय को धार्मिक कार्य करने के लिए कई दिनों तक रोड़ बंद करने की अनुमति मिल सकती है

तो दूसरे सम्प्रदाय का कोई व्यक्ति 10 या 15 मिनट की नमाज़ अगर मजबूरी में सड़क पर पढ़ लेता है उस पर कार्यवाही क्यों ?? उस पर शोर शराबा हल्ला गुल्ला क्यों ? नमाज़ हो या पूजा हो उसमें सब ईश्वर अल्लाह का ही नाम जपते है। अल्लाह ईश्वर से अपनी मन्नत मांगने और उसे खुश करने का एक जरिया है पूजा और नमाज़ जब सड़कों से कावड़ यात्रा निकाली जा सकती है और अन्य धार्मिक जुलूस वह कार्यक्रम आयोजित हो सकते हैं तो क्या 10 -15 मिनट के लिए नमाज नहीं पढ़ी जा सकती है ।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *